योग दर्शन की तत्व मीमांसा की विवेचना

Authors

  • शुभम सेमवाल Author

DOI:

https://doi.org/10.7492/7ewk8d37

Abstract

योग दर्शन प्रमुख भारतीय दर्शनों में से एक आस्तिक दर्शन है; जो कि जन साधारण को दर्शन के प्रमुख अंग, तत्व मीमांसा, ज्ञान मीमांसा एवं आचार मीमांसा पर चर्चा करते हुए भारतीय दर्शन के दार्शनिक पक्ष से अवगत कराता है। हालांकि योग दर्शन के अधिकतर दार्शनिक सिद्धांतों का आधार सांख्य दर्शन को स्वीकारा जाता है; परंतु कुछ स्थानों पर योग दर्शन द्वारा सांख्य से इतर कुछ विषयों की चर्चा से दार्शनिकों में कईं शंका जनित विरोध दिखाई पड़ते हैं। इस शोधपत्र में योग दर्शन की तत्व मीमांसा से संबंधित ऐसी ही शंकाओं के निराकरण का प्रयास किया गया है।

Published

2012-2024

Issue

Section

Articles

How to Cite

योग दर्शन की तत्व मीमांसा की विवेचना. (2024). Ajasra ISSN 2278-3741, 13(7), 1-5. https://doi.org/10.7492/7ewk8d37

Share